PMVVY vs POMIS vs SCSS - जानिए बुजुर्गों के लिए कौन सा निवेश प्लान रहेगा बेस्ट

PMVVY vs POMIS vs SCSS सीनियर सिटीजन के लिए क्या है अच्छा विकल्प, कहां मिलेगा ज्यादा फायदा?


PMVVY vs POMIS vs SCSS - जानिए बुजुर्गों के लिए कौन सा निवेश प्लान रहेगा बेस्ट
PMVVY vs POMIS vs SCSS

PMVVY Vs POMIS Vs SCSS - सीनियर सिटीजन के लिए क्या है अच्छा विकल्प

PMVVY Vs POMIS Vs SCSS में न्यूनतम 1000 रुपये और अधिकतम 4.5 लाख रुपये का निवेश किया जा सकता है।

रिटायरमेंट के बाद, वृद्ध लोगों की जरूरतों को ब्याज आय या रिटायरमेंट फंड के माध्यम से पूरा किया जाता है। हालांकि एफडी भारत में सबसे लोकप्रिय निवेश विकल्प है, बैंक वर्तमान में फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर ब्याज दरों में लगातार कमी कर रहे हैं। ऐसी स्थिति में, लोग अन्य निवेश विकल्पों की तलाश करते हैं जो उच्च ब्याज दर के साथ गारंटीकृत रिटर्न प्रदान करते हैं। इन विकल्पों में सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS), प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (PMVVY), और पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना (POMIS) शामिल हैं। आइए जानते हैं कि उनकी क्या खासियतें हैं।

ये भी पढ़ें - PF Account के साथ कर्मचारियों को मिलती है Insurance, Loan और Pension की भी सुविधा

सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम - Senior Citizen Savings Scheme

इस स्कीम के तहत कोई भी 1,000 रुपये के गुणकों में अधिकतम 15 लाख रुपये तक का निवेश कर सकता है। इस स्कीम में हर तीन महीने में ब्याज का भुगतान किया जाता है, इसलिए आप इस स्कीम में निवेश करके नियमित आय अर्जित कर सकते हैं। इस स्कीम में, खाता पांच साल में समाप्त हो जाता है। इसके बाद, निवेशक इसे आगे भी बढ़ा सकते हैं। यह स्कीम अभी भी 7.45 प्रतिशत की ब्याज दर प्रदान करती है। यह ब्याज दर अप्रैल से जून की मौजूदा तिमाही के लिए है।

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम - Post Office Monthly Income Scheme

जो लोग नियमित आय चाहते हैं, उनके लिए POMIS भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है। वर्तमान में यह स्कीम 6.60 प्रतिशत की ब्याज दर प्रदान करती है। इस स्कीम में न्यूनतम 1,000 रुपये और अधिकतम 4.5 लाख रुपये का निवेश किया जा सकता है। वहीं, ज्वाइंट अकाउंट में अधिकतम 9 लाख रुपये का निवेश किया जा सकता है। POMIS खाता खोलने के लिए ग्राहक को सबसे पहले डाकघर में बचत खाता खोलना होगा। इससे मासिक ब्याज आय सीधे बचत खाते में ट्रांसफर हो जाएगी। इस स्कीम में मैच्योरिटी अवधि भी पांच वर्ष है, लेकिन एक वर्ष के बाद समय से पहले निकासी का विकल्प भी उपलब्ध है। इस योजना से प्राप्त ब्याज आय कर के अधीन है।

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना - Pradhan Mantri Vay Vandana Yojana

इस योजना को भारत सरकार द्वारा सब्सिडी दी जाती है। इस योजना को भारत की वेबसाइट www.licindia.in पर LIC के माध्यम से ऑफलाइन या ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। यह प्लान 10 साल के लिए है। यह योजना प्रति वर्ष 7.40% की दर से गारंटीड रिटर्न प्रदान करती है, जो मासिक भुगतान किया जाता है। यानी इस स्कीम में निवेश करके निवेशक पूरे 10 साल के लिए मासिक ब्याज आय अर्जित कर सकता है। इस योजना में निवेश करके आप न्यूनतम पेंशन 1,000 रुपये और अधिकतम मासिक पेंशन 10,000 रुपये प्राप्त कर सकते हैं। पेंशन की राशि योजना में निवेश की गई राशि पर निर्भर करती है। इस योजना में सीनियर सिटीजन 15 लाख रुपये तक का निवेश कर सकते हैं।


जानिए कौन सा होगा बेहतर 


किसी भी निवेश योजना में सबसे महत्वपूर्ण बात ब्याज दर है। SCSS और PMVVY दोनों लगभग 7.45 और 7.40 प्रतिशत की ब्याज दरें अर्जित करते हैं। जबकि POMIS पर 6.6 प्रतिशत की ब्याज दर मिल रही है। इसलिए, सीनियर सिटीजंस के लिए SCSS और PMVVY में से कोई एक चयन करना बेहतर होगा। PMVVY एक लंबी लंबे लॉक-इन पीरियड के साथ आता है। वहीं, SCSS आय कर लाभों की पेशकश करती है। इसलिए, निवेशक अपनी जरूरतों के अनुसार इन दोनों में से किसी एक को चुन सकते हैं। निवेशकों की तुलना करते समय, यह भी देखें कि ब्याज आय का भुगतान पीएमवीवीवाई (PMVVY) में मासिक है। वहीं, एससीएसएस (SCSS) में तीन महीने में ब्याज आय का भुगतान किया जाता है।

बिजनेस न्यूज की नवीनतम समाचार, Business Knowledge,Banking,Insurance, Savings & Investment की Latest online news सबसे पहेले पढ़ें Onlinenews.live पर

ये भी पढ़ें - म्यूचुअल फंड में निवेश करते समय न करें ये गलतियां, वरना हो सकता है नुकसान

Post a comment

0 Comments